Wednesday, April 3, 2019

मानव के जमीनी अधिकार को कैसे पहचाने - #योगेन्द्र_कुमार


अधिकार अनेक प्रकार के होते है, हम बात करेंगे, मानव के जमीनी अधिकार के बारे में, इसके लिए एक छोटा सा उदाहरण देना चाहता हूँ |
अगर कोई व्यक्ति किसी गाँव में रहता है, तो वह किस आधार पर वहाँ का निवासी होता है |

जमीनी अधिकार
this image is original credit by google search
जबकि उसने अपना सारा जमीन, घर बार सब बेंच दिया है, उसके पास एक फूटी कौड़ी जमीन और रुपया नहीं है, तो क्या वह उस गाँव का निवासी कहलायेगा |
क्या उस गाँव पर उस व्यक्ति का कोई अधिकार होगा |
अगर होगा तो क्या ?
निवास के आधार पर, या जन्म के आधार पर, परिवार के आधार पर, या गाँव की सदस्यता के आधार पर |
आपको बता दूँ, कोई भी व्यक्ति उस गाँव के सदस्यता के आधार पर वहाँ का निवासी होता है |
एक गाँव में कुल 1000 लोग रहते है, जहाँ की कुल जमीन 1000 एकड़ है, जिसमें का 200 एकड़ खाली मैदान है |
 एक दिन क्या होता है, उस 200 एकड़ को सरकार प्राइवेट कंपनी को दे देता है |
क्या उस 200 एकड़ जमीन पर गाँव का कोई अधिकार नहीं होता |
समझने वाली बात यह है, की यह जमीन सहकारी होते हुए भी सरकार की नहीं है |
सरकारी जमीन उसे कहते है, जिस पर राज्य या केंद्र के लिए भूमि का क्षेत्र, या जमीन निश्चित किया गया है |
जैसे :- नदी, जंगल, पहाड़, पठार, जो किसी किसी गाँव के अन्दर न आता हो |
इस अनुसार से जो 200 एकड़ जमीन की कीमत का पैसा है, वह गाँव वालों का हुआ, क्योंकि वह जमीन गाँव की है |
लेकिन उस पैसे पर किसका अधिकार होना चाहिए |
यहाँ तीन चीजों को समझना है, एक वर्तमान, दूसरा भूत काल, और तीसरा आने वाला भविष्य |
समझने वाली बात यह है, जमीन गाँव का है, इसलिए पूरे गाँव का अधिकार हुआ |
यह पैसा किसी परिवार का नहीं है, यह पूरे गाँव के सदस्य लोगों का है, जो गाँव में रह रहा है, क्यों न उसके पास एक फूटी कौड़ी जमीन भी न हो |
लेकिन अगर इस पैसे को यही लोग सदस्यता के आधार पर आपस में बाँट लेते है, तो इस पैसे का फायदा यही लोग पायेंगे |
चूकी: अगर कंपनी लगेगी तो, उसका प्रभाव, वर्तमान, भूत और भविष्य के जन्म लेने वाले लोगों के ऊपर पड़ेगा, तथा आस पास के सभी लोगों के ऊपर पड़ेगा |
इसलिए जो पैसा है, वह लोगों के विकास के लिए खर्च होना चाहिए |
इस पैसे से प्राथमिक तौर पर, सहकारी शिक्षा, हॉस्पिटल, पानी, तथा गाँव के विकास के लिए जो आवश्यक है, उसमे खर्च होने चाहिए |
#yogendra_kumar #योगेन्द्र_कुमार #जमीन #अधिकार #जमीनी_अधिकार
/>

This post have 0 Comments


EmoticonEmoticon

Next article Next Post
Previous article Previous Post

Advertisement