Feb 17, 2019

#ब्राम्हणवाद #मनुवाद का अंत और #आंबेडकरवाद अभियान कैसे सफल होगा |

ब्राम्हणवाद मनुवाद का अंत और आंबेडकरवाद अभियान


bramhanwad manuwad ka ant aise hoga

#मूलनिवासी या #दलित कहे तो, एस.टी., एस.सी., ओबीसी, आते है इनमे
आप तो भली भाती जानते होंगे की ब्रम्हान्वाद और मनुवाद क्या है, सीधे बात करते है, पॉइंट के ऊपर हमें क्या करना है |
भारत देश ऐसा है, यहाँ कोई भी अपनी विचारधारा को रख सकता है, किसी के ऊपर कोई दबाव नहीं डाल सकते है |
ब्रम्हान्वाद और मनुवाद किसी को कार्य करने के लिए विवश तो नहीं कर रहा बस, करने के लिए मन में डर दिखा रहा है |
और लोग समझ लेते है, यही हमारी प्रथा है |
क्या ब्राम्हणों को समझाने से समाज शिक्षित हो जायेगा |
क्या ब्राम्हणों को समझाने से लोग ढोंग को त्याग देंगे |
क्या ब्राम्हणों को समझाने से लोग समझ जायेंगे |
बिलकुल नहीं, तो करना क्या है |
एक ब्राम्हण है जो लोगो से कह रहा है, आपके ऊपर शनि है, और शनि के ऊपर 1 लीटर तेल चढ़ाना होगा |
आप किसे समझोगे |
उस ब्राम्हण को या उस आदमी को जो तेल चढाने वाला है |
अगर कोई होली खेल रहा है तो किसे मना करोगे, उस खेलने वाले को, या किसी दुसरे को |
अगर ब्राम्हणों ने गलत नियम बनाया है, अगर जान कर उस नियम आप पालन करते  है, तो आप भी गलत है, ध्यान रहे |
अगर कोई राजश्री बेच रहा है, तो जो खा रहा है वह भी, जानबुझकर गलत कर रहा है, अगर किसी में इंतनी ताकत है, की पुरे कंपनी को बंद कर दे, या उस व्यक्ति को समझाए, जो खा रहा है, कितने बेचने वाले को समझोगे, अगर बेचना जायज है तो |
यहाँ तक आप समझ गए, समझाना किसे है |
व्यक्ति को, लोगो को ,समझाना है, जो ऐसा कर रहा है, मगर कैसे समझाना है,
आज के समय में अनेक प्रकार के लोग है, किस-किस को समझाओगे, और किस माध्यम से समझाओगे |
कोई बहरा है, तो कोई गूंगा, कोई कोई पागल है, तो नासमज, कोई अनपड़ है, तो किसी को पड़ना नहीं आता, किसी की आँखे कमजोर है, तो कोई कुछ और अनेक तरह से |
इन्टरनेट के माध्यम से समझाओगे, facebook के माध्यम से बताओगे |
Whatsapp के माध्यम से बताओगे, लिख कर भेजोगे, या विडियो बनाकर, कितने लोग देखेंगे |
यह तो सभी कर रहे है, कभी इसकी बुराई तो कभी उसकी बुराई |
मानता हूँ की यह सोशल साईट हमारा सबसे बड़ा हथियार है, मगर इसका उपयोग हमें सही तरीके से करना होगा |
किसकी बुराई करोगे, उम्र गुजर जायेगा, बुराई करते-करते, कोई एक भी नहीं सुधरेगा |
चलो मान लिया 10 भी सुधर गए, क्या इससे कुछ होने वाला है |
आज लोगो के मन में ये छोटा जात का ये बड़ा जात का, ये उस धर्म का ये इस धर्म का, ये मेरा ये तेरा, आपस में ये मनुवादी लडवा रहे है |
तो करें तो करें क्या, इसे समझो
#योगेन्द्र_कुमार #योगेन्द्र #Yogendra #Yogendra_Kumar
आज के समय में अनेक प्रकार से लोग काम कर रहे है, जैसे राजनीतिक पार्टी, संगठन जैसे #भीम_आर्मी, बामसेफ, DS4, और भी अनेक तरह के |
आज के समय में देश #मनुस्मृति से नहीं #संविधान से चलता है |
आज मनुवादी बड़े प्रेम से सभी जगह-जगह पहुँच रहे है, लुभावने आयोजन कर रहे है, विवाह, मुंडन और अनेक प्रकार के रीति रिवाज को करवा रहे है, और लोग कर रहे है, ये नहीं जानते की ये गुलाम बनाने की तैयारी चल रही है, गरीब बनाने की प्रथा का सुरुआत है, एक दिन इनको इतना विवश कर दिया जायेगा, की ब्राम्हण के बिना कोई कार्य नहीं होगा |

आज भी ओबीसी समाज और अन्य मूलनिवासी समाज की इतनी औकात नहीं की अपने बच्चे का नाम क्या रखना है, यह सोच पाए, जायदा नहीं तो फिर से राशि के चक्कर में पड़ेंगे, ग्रह नक्षत्र देखेंगे |
आज लोग अनेक जाति और समाज में बंटे हुए है,
एक व्यक्ति, और परिवार, पूरा गाँव, इकाई, सेक्टर, 100 गवा तहसील इकाई, जिला इकाई, राज्य इकाई, और देश, पूरा विश्व |
आज लोग किसी-किसी को ही समझाने का काम कर रहे है, और कोई-कोई पूरा समाज को समझाने का काम कर रहा है, तो कोई-कोई पुरे गाँव को समझाने का काम कर रहा है |

लोगो को किस प्रकार से जागरूक करें |

आप किसी खास-खास लोगो को एक-एक करके समझा सकते है,
अगर किसी एक समाज को टारगेट करके समझायेंगे, तो भेदभाव आ जायेगा |
इसलिए पुरे गाँव को, सर्व समाज को समझाने की जरुरत है |
लेकिन गाँव में तो अनेक प्रकार से, बच्चे, युवा, जवान, बुजुर्ग, महिला, लडकियाँ रहते है |
कैडर करोगे तो गिने चुने लोग ही आयेंगे, मोहल्ले से, ओ भी महिला बहुत कम आयेंगे |
सबसे जरुरी ध्यान देने वाली बात, जो अभियान चलाता है, उस व्यक्ति को देखकर ही समाज आगे बढ़ता है, इसलिए व्यक्ति का चरित्र, और बात करने का तरीका, व्यक्ति समझदार और शिक्षित हो |

आपको 4 विषय को लेकर कार्य करना है |

1. मनुवाद के बारे में बताना, जागरूक करना, मनुवाद से निकालना |
2. शिक्षा के प्रति जोर देना, Tuition देना, शिक्षित करना |
3. उसके बाद संगठित करना, सभी में एकता की भावना, मिलकर कार्य करना |
4. और अंतिम में संघर्ष करना |

यह कार्य किसी राजनीति पार्टी के द्वारा न हो तो बेहतर है, इससे यह अभियान कमजोर हो सकता है |

किस तरह करें अभियान की शुरुआत |

लोग आपकी बात क्यों सुने, आप उनकी वास्तविक भलाई की बात करें |
मनुवाद से लोग किस तरह से गरीब हो रहे है, इसको बताये |
#मनुवादी_त्यौहार, जयंती के 15 दिन पहले, लेख अभियान, प्रिंट करके घर-घर बांटे |
लोगो को समझाए, ब्राम्हणों से किसी प्रकार का कोई भी रस्म, पूजा पाठ, विवाह कुछ भी न करवाए |
फिर पुरे गाँव के लोगो को एकता के सूत्र में रहने के लिए कहे |
अपने पैसे को फालतू, टेंट, और अन्य में खर्च न करें |
गाँव में कुछ भी मनुवादी त्यौहार होता है, तो उससे पहले ही सजग हो जाये, लोगो को समझाए, यह गुलाम बनाने के लिए उपहार में दिया गया है |
लोगो को ध्यान कराएँ, यह ध्यान किसी धर्म से सम्बंधित न हो, न किसी का नाम जपे, बस योग की तरह |
समाज से आग्रह करें, मूर्ति पूजा न करें, इन मनुवादियों के गुलामी प्रथा से दूर रहे |
बच्चो के ऊपर ध्यान देवे |
यह अभियान में गाँव के हर व्यक्ति को जागरूक करें |
किसी से कोई धर्म परिवर्तन न कराये |
यह अभियान निरंतर जारी रखे, हर दिन प्रत्येक दिन, अपने गाँव को प्राथमिकता दे, जो परिवार सुधर सकता है, उस पर जायदा ध्यान दे |
मोक्ष की बात आये तो कहे, कर्म से ही मोक्ष मिलता है, इस संसार में कोई नहीं मोक्ष देने वाला |
( बच्चे से लेकर 25 वर्ष तक के व्यक्ति के ऊपर सबसे अधिक ध्यान देवे |
बच्चे ही, यही आगे के भविष्य है, इन्हें सुधार लोगे तो समाज सुधर जायेगा  )
मनुवादी शिकारी के जाल से, इन मूलनिवासी पक्षी को बचाते रहे |

ऐसा अभियान हर गाँव में चलाओ |
यह सभी एक झटके में नहीं होगा |
लोगो से कुछ ऐसा न कहो जिससे उनकी भावना को ठेस पहुंचे |

अभियान चलाने के लिए पैसे कहाँ से आयेंगे ?

हर घर से चंदा मांगे, जो नौकरी कर रहे है वह,3 से 5% प्रत्येक मंथ देवे |
जो लोग मूर्ति पूजा नहीं करते, नशाखोरी नहीं करते, इनको सम्मानित करने का काम करें |
जो लोग इस अभियान में आगे बढ़ रहे है, उनका फूलमाला, पुस्तकों, किताब, पेन से सम्मानित करें |
घर-घर में मूलनिवासी लिख दो, हम इस देश के शासक है |
यह अभियान प्रत्येक दिन जारी रहे, बच्चो को प्रत्येक दिन Tuition देवे, अगर पैसे अभियान के लिए न हो तो, बच्चो के पालक से 30 रूपये महीने, या देखकर ले सकते है, इस पैसे का 50% अभियान में और बांकी पढ़ाने वाला रख सकता है, अर्थात पढ़ाने वाला अपना 50% अभियान को दे रहा है |
किसी से लड़ना नहीं करना , डरना नहीं, अपना अभियान जारी रखना, कुछ भी हो जाये, यह अभियान जारी रहे |
कुछ भी आन्दोलन का समय आता है तो, इस टीम से संघर्षकारी लोग आगे आयेंगे, बांकी अपना काम करेंगे |
चतुर शिकारी ने रख्खा है, जाल बिछाकर पग-पग पर |
भूल न जाना तू पगले, नहीं तो पछतायेगा जीवन भर ||
अर्थ – इन ब्राम्हणों, क्षत्रियो, और वैश्यों के जाल से बचना |

किसी प्रकार की समस्या के लिए मुझसे संपर्क कर सकते है |
Yogendra Kumar 09131880737
www.facebook.com/yogendragyan
#Yogendra_Kumar   #Yogendra  #Mulnivasi  #मनुवाद  #मनुवादी  #मूलनिवासी  #ब्राम्हणवाद  #भीमवाद #जय_भीम  #ब्रम्हान्वाद_का_अंत  #मनुवाद_का_अंत #bramhanwad #bramhanwadkaant
#चोटी_का_अंत  #भीम_मिसन #एंटीना_का_अंत
Previous Post
Next Post

post written by:

1 comment:

  1. क्रांतिकारी सुधारवादी लेख ����

    ReplyDelete