Tuesday, February 5, 2019

आदिवासी कौन है ? गर्व है आदिवासी होना |


aadiwasi koun garv se kaho ham aadiwasi hai
ST के अन्तर्गत आने वाले लोगो को आदिवासी कहाँ जाता है, जो लोग आदिवासियों को नहीं जानते उनको जान लेना चाहिये, की आदिवासी कौन है,
और इन्हें आदिवासी क्यों कहाँ जाता है |
आदि, अर्थात पहले का, जिसका शुरु का पता न चलता हो, या कह सकते है बहुत पुराना |
वासी, अर्थात वास करने वाला, रहने वाला, रहन करने वाला |
इस तरह से जो बहुत पहले से आदिकाल से रहते आ रहे है, उन्हें आदिवासी कहते है, आदिवासी कोई गाली या गलत शब्द नहीं है |
आदिवासी कहलाना गर्व है |
क्योकि जो आदिकाल से रहते है, वास कर रहे है, वही इस जगह के असली मालिक हुए, चूकी इनको अपनी सभ्यता से बहुत प्यार है, इसलिए ये आज भी जंगलो में, पहाड़ो में, खान पान पुराने तौर तरीके से, ये लोग बहुत सरल स्वाभाव के होते है |
जल जंगल जमीन के वास्तविक मालिक होते हुए भी आज ये भटक रहे है, क्योकि जंगल में रहने के कारण, उचित मात्रा में शिक्षा का और आधुनिक युग का भरपूर उपयोग नहीं कर पा रहे है |
इसलिए लोग आज इनका मजाक उड़ाते है, यह बहुत गलत है |
सरकार भी इनकी तरफ धयान नहीं दे रही है, तभी तो योजनाओ को सही तरीके लागु नहीं करती |
आज इनकी जल जंगल और जमीन को इनसे छिनी जा रही है, और ये अशिक्षित होने की वजह से कुछ कर नहीं पा रहे है |
आज इनको नक्सली बनाकर मारा जा रहा है, तो कभी ये भूखे पेट मर रहे है |
सरकार की इस फोटो कॉपी योजना में लोग गरीब हो होते जा रहे है,
दर असल इनके समाज के पढ़े लिखे लोग ही इन आदिवासियों को धोखा दे रहे है,
सरकार के साथ क्या ये, स्वंम कोचिंग सेंटर मुफ्त में नहीं खोल सकते, रोजगार के अवसर नहीं दिला सकते |
बिलकुल कर सकते है ,

Previous Post
Next Post

post written by:

0 Comments: