Jul 26, 2018

बाबा साहेब का मिशन और वर्तमान में सामाजिक जागरूकता

बाबा साहेब का मिशन और वर्तमान में सामाजिक जागरूकता

बाबा साहेब का मिशन और वर्तमान में सामाजिक जागरूकता

दोस्तों ये सही है कि बाबा साहेब का मिशन आगे बढ़ रहा है परन्तु वास्तव में आपेक्षित परिणाम सामने नहीं आ रहा है | अभी भी समाज का पढ़ा लिखा व्यक्ति अपनी जिम्मेदारी को दरकिनार कर बचने की कोशिश करता है, और कई पढ़े लिखे लोग तो ऐसी भी है, जो बाबा साहब के जीवन संघर्ष के बारे में बखुबी जानते है, परन्तु उसे प्रसारित करने का नाम भी नहीं करते | दो शब्द भी बाबा साहेब के बारे में बोलकर लोगो का जागृत भी नहीं करते | जागृत करना तो दूर की बात है, वे स्वंम अभी भी रुढ़िवादी एवं अन्धविश्वास में फसे हुए है और अपनी संकिर्ण मानसिकता का परिचय दे रहे है | हमारे समाज में ऐसे अनेक लोग है, जो बाबा साहेब की जयंतिया मनाते है, बड़े-बड़े मीटिंग अटेंड करते है, परन्तु क्रिश्चन धर्म के कार्यक्रम में पहुचने से भी बाज नहीं आते, और मंदिर जाने में संकोच भी करते है | मै समझता हूँ, समाज का 40% लोग क्रिश्च्नो के झांसे में आ गया है और दुर्भाग्य की बात यह है भाई जय भीम बोलना है तो उसकी जगह जय युशु बोलने लगे है |    

            हमें येशु या अन्य धर्मो से कोइऊ एतराज नहीं है हम तो यही चाहते है सब धर्मो के सार को निचोड़ कर पी जाए उनके द्वारा कही गई अच्छी अच्छी बातो का अनुशरण करें उन्हें आत्मसात कर अपने जीवन को सुखमय बनाए| परन्तु सार तत्व को छोड़ अंधविश्वास को पकड़ने में लोग जायदा माहिर होते जा रहे है | क्योकि उनकी तार्किकता और विश्लेषण क्षमता सिमित है | जबकि बाबा साहब का सम्पूर्ण जीवन दर्शन हमें यही सिखाता है की व्यक्ति को कर्म करने से ही फल की प्राप्ति है जबकि अन्योन्य धर्म चमत्कारी शक्ति को पोषित करने में तुले हुए है |

        इस देश के विदेश के भी बड़े-बड़े विद्वानों और वैज्ञानिको ने भी यह कहाँ है की इस दुनिया में कोई भी चमत्कारी शक्ति नहीं है क्योकि सब कुछ भौतिक क्रियाओ से ही संचालित है |

        अब बात यह आती है की कैसे इन पिछड़े मानसिकता के लोगो को सही राह पर लाया जाए इसके लिए सबसे आवश्यक यह है की नेतृत्व की कमी दिखाई दे रही है | अलग-अलग क्षेत्रो में प्रख्यात आदर्श चेहरे हो जिनसे समाज के अन्य लोग भी प्रभावित हो सके | मै निश्चित एवं योजनाबध्द तरीके से कार्यो का क्रियान्वन करें प्राप्त परिणामो का पुनः निरिक्षण भी करते है |
     - जीवेन्द्र भारती
Previous Post
Next Post

post written by:

0 Comments: