Jul 24, 2018

अपने बच्चो को कैसे पढाये कैसे शिक्षित करें

apne bachcho ko kaise padhaye www.inhindiindia.in
हर माँ बाप की चिंता रहती है की उसके बच्चे का भविष्य उज्जवल हो, वे एक बड़े मुकाम को हासिल करें | परन्तु इसके लिए वे उन्हें सही दिशा निर्देश नहीं दे सकते क्योकि, उनकी ख़ुद की पढाई एक देश दुनिया की जानकारी  से अल्प है | जो अभिभावक शहरी क्षेत्र के होते है वे अपने बच्चो के भविष्य के प्रति अत्यंन्त सजग होते है, जबकि ग्रामीण इलाके में इस व्यव्हार की कमी देखी जाती है |

        बच्चो के भविष्य को बेहतर बनाने के लिए आपको चाहिये की आप बच्चे के जन्म के पच्शत ही उसकी व्यवस्थाओ में लग जाइये प्रारंभिक एक डॉ साल तक आप में सुनिश्चित कीजिए की आपके बच्चे को सही पोषण मिल रहा है की नहीं क्योकि एक स्वस्थ बच्चे में ही अधिकतर संभावनाए छुपी रहती है | इसलिए आप उसे समुचित पोषण प्रदान करें | इसके बाद दो से तीन साल तक बच्चो को स्वच्छंद रूप से खेलने दीजिये | खेलने के लिए उन्हें ऐसी सामग्री प्रदान करें जिससे उनकी बौध्धिकता, एवं तर्कशक्ति का विकास हो | कहने का अर्थ यह है की कक्षा पहली या नर्सरी में भर्ती करने के पूर्व आप उनको मानसिक रूप से तैयार कीजिए ताकि घर के बाद जाने में उनको असंतुलन महसूस न करना पड़े |

    इसके बाद कक्षा 1 से 10 वी तक उनको सामान्य विषयों का अध्ययन कराइए, लेकिन इस बीच आप आकलन करते रहे की उसकी अभिरुचि एवं अभिवृति किस पर सकारात्मक है | किस विषय में उसका सर्वाधिक पकड़ है | जब आपको मालूम हो जाए की बच्चे की रूचि आमुख विषय में सर्वाधिक है, आप उसी विषय को प्राथमिकता देवे |  और इसी तरह से स्नातक भी अपने पसंद से करने दे, साथ ही उसकी गतिविधि पर नजर रखे, की वह सही दिशा की ओर जा रहा है, की नहीं | आगे चलकर पढाई में उसे समझ आ जायेगा की PG की किस्मे करनी है |
बच्चे के ऊपर प्रेशर डालकर पढाई न कराए,
पुस्तकों और ज्ञान के प्रति प्रेम प्रकट करें,  याद रखे आपके बच्चे आप से ही सबसे जायदा सीखते है  |
ओ भी स्वंम से ,
Previous Post
Next Post

post written by:

0 Comments: