Feb 21, 2018

मै जीवन में वास्तव में क्या करना चाहता हूँ ,मेरी कहानी मेरी जुबानी -योगेन्द्र कुमार धिरहे

Mai Wastav Me Kya Karna Chahta Hun
मैंने बचपन से ही एक सपना देखा था, मुझे ये बनना है, मै इसी सपने के साथ आगे बढ़ता चला, जब मै अपने मंजिल के करीब पहुचने वाला ही था, मुझे लगा यह करना मेरे लिए उचित नहीं, मुझे तो कुछ और ही करना है, मै फिर एक और मंजिल को लेकर आगे चलने लगा, मै अपने मंजिल के करीब पहुच गया, मुझे फिर से एहसास हुआ, यह मेरे लायक नहीं है, इसमें तो कुछ भी नहीं है मेरे लिए या मुझे लगा, की यह करना मेरे लिए उचित नहीं होगा, मै फिर उससे बड़े सपने को लेकर आगे बढ़ने लगा, मै फिर से अपने मंजिल के करीब पहुचने लगा, मुझे फिर एहसास हुआ, शायद मै ही इस बार गलत क्यों न हो, यह जो मेरा सपना था, वह बहुत बड़ा था, पर भी मुझे पता नहीं, मेरे लिए कम ही क्यों लगा, इस तरह से अपने सपने को चीरता हुआ, बहुत अचरज सोच के साथ, शांति से बहुत दिनों तक कई सालो तक उस चीज का इंतजार करने लगा, जहा पर पहुच कर मुझे न लगे की मैंने गलत किया है, मै हर दिन सोचने लगा, वह क्या है, जिसे मै वास्तम में प्राप्त करना चाहता हूँ, वह क्या है, जिसे मै बेहतर कर सकता हूँ, वह क्या है, जहाँ पर पहुचने के बाद मुझे पछतावा ना हो, वह क्या है, अंतिम में मैंने फिर से एक निर्णय लिया, की मुझे इस रास्ते में आगे बढ़ना है, मेरे मन में अक्सर यह प्रश्न चला आता है, क्या मैंने सही किया |
मैंने बहुत सारे सपने देखे, सभी को पीछे छोड़ता गया, एक के बाद एक क्या ये सही है, जो मैंने इनको पीछे छोड़ दिया, लेकिन मुझे दुःख नहीं होता, मगर क्यों,
शायद मुझे कुछ और ही करना था, जो मैंने पहले सपने देखे थे, वह उस समय की बात है, समय के साथ भी, हालत सोच, विचार, नियम बदलते रहते है, इसी तरह से, मुझे वास्तव में लगा, जो मै बनना चाहता था, वह तो कोई भी बन सकता है, बाद में मुझे एहसास हुआ, मुझे तो कोई और बुला रहा है, लेकिन मुझे ही क्यों, इस रास्ते में भी तो हजारो है, क्योकि मेरा दिल इसी के लिए धड़कता है, और मै इसी के लिए कुछ करना चाहता हूँ, बड़ी बात ये नहीं की मै ये बनना चाहता हूँ, मेरे अनुसार से बड़ी बात ये है, मै ये बनना क्यों चाहता हूँ, क्या वास्तव में मुझे ये बनना चाहिए | मुझे भी तो यही एहसास हुआ, मुझे ये नहीं बनना चाहिए, मैंने अपने सारे सपनो को पीछे छोड़ते हुए, उस रास्ते को पकड़ लिया, जिसे करने में मेरा मन हो |
Previous Post
Next Post

post written by:

0 Comments: