Dec 18, 2017

बिल्ली के रास्ता काटने से क्या होता है ? बिल्ली R काटे तो क्या हो सकता है - योगेन्द्र धिरहे की नज़र से जाने

Billi Rasta kat le to kya hota hai
मैंने अक्सर लोगो को देखा है, जब लोग सड़क से, मुहल्ले से गुजर रहे होते है, और बिल्ली रास्ते से गुजर जाए तो, उसे पार करके लोग आगे नहीं बड़ते,
इसी तरह से जमीन पर रेंगने वाली छिपकली को देखकर भी लोग अक्सर नहीं गुजरते, मै भी कुछ इसी तरह का व्यक्ति था |
मै भी जब गुजर रहा होता तो बिल्ली रास्ते से गुजर जाती तो मै कुछ देर इंतजार करने के बाद, या किसी के जाने के बाद ही वहाँ से आगे बढता था |

इसी मान्यता के साथ मैंने अपनी जीवन के आधे जिंदगी के दिन बिता दिए, लेकिन मैंने ऐसा क्यों किया,

क्या वास्तव में बिल्ली के रास्ते काट लेने से

कुछ होता है, मै कहना चाहता हूँ, हाँ, होता है |
मगर क्या ?
एक दिन की बात है जब मै बाइक से घर आ रहा था, मुझे अचानक फोन आया घर से, की माँ सीडही से फिसल कर गिर गई है, मेरे घर में, आस पास में ऐसा कोई नहीं था, जो माँ को हॉस्पिटल ले जाए, मै जल्दी से घर आया, मैंने रास्ते में एम्बुलेंस को फ़ोन कर दिया था, कुछ समय बाद ही एम्बुलेंस भी आ गया, माँ को बहुत चोट आई थी, खून भी निकल आ रही थी, जैसे तैसे कुछ लोग मिलकर माँ को एम्बुलेंस में लेताये, घर से हॉस्पिटल की दूरी करीब 40 मिनट की थी |
आधे रास्ते में पहुँचे ही थे की, काली बिल्ली ने रास्ता काट लिया, ड्राइवर ने गाड़ी रोक दी, मैंने पूछा क्या हुआ है, उसने कहाँ बिल्ली ने रास्ता काट लिया है, मेरे अन्दर से आवाज चिखते हुए निकल पड़ी, ईधर मेरे माँ की जान जा रही है, और साला तुम्हे शुभ अशुभ लगन की पड़ी है, अगर तुमने तुरंत गाड़ी नहीं चलाया तो, तुम्हारा नौकरी के साथ अंधविश्वास भी छूट जायेगा |
वह मेरी बात समझ गया, और हम हॉस्पिटल पहुँच गए , और माँ का ईलाज करा सके, क्या होता अगर मै घर आते समय बिल्ली के रास्ते काटने का फिक्र करता, क्या होता उस समय जब एम्बुलेंस ड्राइवर को ना डाटता, क्या होता उस समय जब दिमाग होते हुए मुर्ख बना रहता |
जो होता सो होता, लेकिन आज मेरे पास मेरी माँ न होती |
मेरे मन में भी उन लोगो के लिए प्रश्न है, अगर उस एम्बुलेंस में मेरी माँ की जगह आपकी माँ, पिता, भाई, बहन, पत्नि, दोस्त, या कोई और होता, और मेरी तरह आप भी “बिल्ली के रास्ता काटने वाली बात पर यकीन करते” तो क्या आप अपनी आँखों के सामने गाड़ी को रोककर, या रोकवाकर मरते हुए देखते रहते |
“कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं, बाद अमृत पिलाने से क्या फ़ायदा”
मै तो बिल्ली के रास्ता काटने से क्या होता है, समझ गया, और आप
                                                            :- योगेन्द्र कुमार धिरहे
पसंद आया तो शेयर करें
Previous Post
Next Post

post written by:

0 Comments: