Jul 13, 2018

पोस्ट लिखकर लाखो पैसे कमाए, गेस्ट पोस्ट से backlink पाए, free Back link website
gest post website free backlink website gest post se paise kamaye
आज के समय में किसी को भी backlink आसानी से नहीं मिलता,
और अगर मिलता है तो उस वेबसाइट का नाम उतना रैंक का नहीं होता या, वह वेबसाइट फ्रैंक होती है,
मेरे वेबसाइट की अगर बात करूँ तो डेली 10,000 पेज view और महीने में 3,00,000 Bounce rate 55 और
सबसे बड़ी बात करूँ मेरे वेबसाइट की तो 99.2 % विजिटर गूगल से सर्च करके आते है
और रही मेरे वेबसाइट के कंटेंट की बात तो 100 % रियल और मेरे द्वारा लिखे गए है,
कोई कॉपी राईट नहीं है,
मै इस वेबसाइट से अच्छे खासे पैसे भी कमा रहा हूँ,
और मेरा आज तक गूगल की तरफ से 1 रुपया भी नहीं कटा है,
न मैंने आज तक कोई गूगल की पालिसी को तोडा है,
अगर आपको यकीं नहीं है तो ख़ुद से सर्च करले,
क्योकि मै सिर्फ 2 ही सोशल मीडिया में अपने पोस्ट शेयर करता हूँ,
एक गूगल प्लस और दूसरा फेसबुक,
आपके पास है सुनहरा अवसर मेरे वेबसाइट में गेस्ट पोस्ट देने का,
और आपको उसके बदले फ्री में हमेशा के लिए backlink लिंक मिलेगा,
और कभी भी अगर backlink वापस लेना चाहे तो ले सकते है,
पोस्ट के अन्दर interlink कर सकते है, अगर चेक करने पर गलत कुछ हुआ, तो Backlink हटा दिया जायेगा |
आपको पूरी तरह से अच्छा लिखना है, अपने दिमाग से, अगर आपने किसी तरह से चलाकी करने की कोसिस की, तो
याद रखे, मै झट से चेअक कर सकता हूँ ,

आपके पोस्ट की खासियत क्या होनी चाहिये

किसी दुसरे का नहीं होना चाहिये,
पोस्ट को हिन्दी या HINDI या इंग्लिश में लिख सकते है,
पोस्ट का टैग, कंप्यूटर, इन्टरनेट, youtube, वेबसाइट, डोमेन, होस्टिंग, ब्लॉग्गिंग, या कोई हेल्थ से सम्बंधित होना चाहिये |
कंटेंट अच्छा हो,
वर्ड कम से कम 500 हो,

Paid Post पोस्ट लिखकर पैसे कमाए

अगर आप पैसे लेकर पोस्ट देना चाहते है तो यह भी कर सकते है,
आपको 500 वर्ड पोस्ट के 100 रूपये से 300 रूपये मिल सकते है |

कैसे भेजे गेस्ट पोस्ट.
आपको मुझे ईमेल या व्हाट्स एप्प करना है
Yogendra
inhindiindia@gmail.com
पर या व्हाट्स एप्प करें
Yogendra
9301510691
धन्यवाद्

Jul 12, 2018

WhatsApp Kya Hai ? Kaise Mobile me install Karen ? in hindi new 2018
WhatsApp Kya Hai ? Kaise Mobile me install Karen ? in hindi new 2018
Namaskar Dosto Ab Se Aapko Whatsapp Ke Bare Me Puri Jankari Dene Wala Hun,
To Start karte hai Whatsapp series,

Aaj Ke Samay Me Har Kishi Vyakti Ke Pass Smart Screen Tech Mobile jarur hai,
Aur Aaj ke samay me har kisi mobile me whatsapp hona aam bat hai,
par adhiktar log nahi jante ki whatsapp kya hai,

Jo Log nahi Janna Chahte Wah ya to janne ki aawasyakta mahsus nahi karte ya ,
unka kam utni hi jankari se chal jati hai,

Ya Ve Utne Padhe Likhe Nahi hai,

Lekin Aapko Jarur Janna Chahiye Ki Whatsaap Kya hai,

To Aaiye Start karte hai,

Whatsapp Kya Hai in Hidni ?


Whatsapp ek Mobile Aap Hai, Jo Internet Ke Madhyam se Chalti Hai,

Iski Khasiyat ye hai ki, yah #Offline Mode me save Ho Jati Hai,

Aur Offline Supported Hai,

Ab Yaha Par kuchh bate Clear kar deta hun,
Jo internet se Chalti hai, Use Online Mode Kahte hai,

      Aur Jo Bina internet Ke Ho Use Offline Mode Kahte Hai,
Whatsapp me Agar Kuchh Bhi Share Kiye Hai, Aur Use internet se Apne Mobile me Load kar Liye hai to use bina internet ke hi Dekh sakte hai,

Jo internet se load ho kar download ho jati hai Offline Supported Kahte Hai,
Jaise Internet se Gane Ko Apne Mobile Ya Pc me Download karne ke Bad Wah Offline Supported Ho Jata hai,

Ab bat Karte Hai Whatsapp Se Kya Kar Sakte Hai,


  • Whatsapp me Aur App Ke Mukable Bahut sare feture hai,
  • Jaise Kuchh Likhkar Msg Karna,
  • Yaha Whatsapp Me Kishi Dusre Ko Kuchh bhi Bhejna (Whatsapp Karna) Kahlata hai,
  • Whatsapp Me Msg Kar Sakte hai, No Limit,
  • Whatsapp me Audio Sent Kar sakte hai,
  • Whatsapp Me Video Sent Kar Sakte Hai,
  • Whatsapp Me Photo Sent Kar Sakte Hai,
  • Whatsapp me PDF, Xml, HTMl, aur Bahut Sare Document Ko Sent Kar Sakte Hai,
  • Whatsapp Me Contact Ko Sent Kar Sakte Hai,
  • Whatsapp Me Apne Location Ko Sent Kar Sakte hai,
  • Whatsapp Ke Madhyam se Audio Calling Kar Sakte Hai,
  • Whatsapp Se Video Calling Kar Sakte Hai,
  • Whatsapp Me Chat Kar Sakte Hai,
  • Whatsapp Extra Feture,
  • Whatsapp Me Group Ka Option Hota Hai,
  • Jiske Madhyam se Saikdo Log ek Sath Jude Hote Hai,
  • Agar Koi Kuchh Bhi Group Me Share karta Hai to Wah Har Kishi Ke Pass Pahuchh jata Hai,
  • Whatsapp Me Agar Koi Kuchh Bhi Sent Karta hai, To Use Mobile Me Download Karke Offline Upyog kar sakte hai,
  • Jaise Maine Aapko Photo Bheja to use aap Print Bhi karwa sakte Hai,
  • Whatsapp Me Har Prakar ke Link Ko Share Kar Sakte Hai,
  • Whatapp Ko PC Me Chala Sakte Hai,
  • Whatapp Ko India Ki 10 Bhasa Me Set Kar Sakte Hai English Ko Jodkar 11,
  • Hindi, Bangla, Panjabi, Urdu, Gujrati, Marathi, Telgu,Odia,English, Aur Bhi,
  • Agar Koi Vyakti Kuchh Bhi Whatsapp Me Kuchh Bhi Bhejta Hai To Ton Bajta Hai,
  • Us Ton Ko Apne Tarike se Pasand Ke Anusar Change Bhi Kar Sakte hai,

To Aapne Jana Ki Whatsapp Kya Hai,

Yah bhi Jane :- 


Whatsapp Kaise Download Kare, install Kare, And Kaise Chalaye,


Sabse Pahle Whatsapp Chalane se Pahle Aapko Yah Kuchh Jaruri Jankari Jan Leni Chahiye,

  • Whatsapp Chalane Ke Liye Mobile Number Ki Jarurat Hoti hai,
  • Aur Mobile Me internet Chal Raha Ho Ya Wi-Fi Bhi Chal Jayega,
  • Mobile Number Ko Bad Me Change Bhi Kar Sakte hai,
  • Aur Whatsapp Ko Delete Bhi Kar Sakte Hai,
  • Aap Whatsapp Ko Apne Pasand Ke Language Me Set Bhi Kar Sakte Hai,
  • Whatsapp Ko app Ka Size 40mb Tak Ho Sakta Hai,

Pichhle Lekh Me Maine Aapko Bataya Tha Ki Whatsapp Kya Hai,

Aur Whatsapp se Kya-Kya Kar Sakte hai,

Mobile me Whatsapp Kaise install Kare aur Chalaye ?


To Start Karte Hai,

Sabse Pahle Aapko Mobile Open Karke Google Play Store Open Karna Hai,

Play Store Me Whatsapp Likhna Hai, Is Tarah se Dikhai Dega use Download Kar Leve,

Aur Uske Baad Wah Install Ho Jayega,

Note Kabhi Bhi GB Whatsapp Na chalaye yah Whatsapp Nahi hai aur Virus App Hai,

Whatsaap Ko Open Karne Par Mobile Number Manga Jayega,
whatsapp mobile number enter

Waha Par aap Jis Bhi Number Me Whatsapp Chalana Chahte hai, us Number Ko Dalna Hai,

Dalne Ke bad Mobile Number Me OTP Jayega Use Dale,

OTP Dalne Ke Bad Aapko Apna Image Dalne Ke Liye Puchh Jayega, Aap Dal Sakte hai Ya Chhod Bhi Sakte hai
,
whatsapp mobile otp enter


Aur Aapko Apna Name Bhi Dalna Hai, Uske bad Save Kar Dena Hai

aur uske baad Profile is tarah se dikhai dega


banki ki jankari aapko agle post me di jayegi

Jul 11, 2018

Raksha Bandhan Kyo Manaya Jata Hai, रक्षाबंधन या राखी क्यों मनाया जाता है
Hello Dosto Kya aap Janna Chahte hai, Raksha Bandhan Kyo Manaya Jata hai,
Aur iski suruaat kaise aur kab, Kaise hui, Kisne Manaya,
To Yah Jankari khas aapke liye hai, to suru karte hai,
rakshabandhan kyo manaya jata hai.jpg

रक्षाबंधन या राखी क्या है ? RakshaBandhan Ya Rakhi Kya Hai ?

Yah ek parv (पर्व) hai, Bharat desh aur vishv me anek dharm hai,
aur ek Prachin Dharm Bharat me Hindu Dharm hai, satya to yah hai koi kisi dharm ka nahi hota yah siddhant ki bat hai, jaise Vaighayanik

Raksha Bandhan ki suruaat kaise hui,

Mana Jata hai, ki Jab Shree Krishna Ghumne gaye the,
to krishna ka hanth kantha (काटा) numa jhadi (झाड़ी) se cut gaya aur, aur Khun (खून) nikalne laga, to wahi Pass me dropadi (द्रोपदी) thi, dropadi ne Krishna ke hanth se khun bahta dekh apni sadi ke kinare ko fad kar Krishna ke hanth me bandha, aur krishna ka Jan Bachaya,Tab se Raksha Bandhan Manaya Jata hai,

           wahi Dropadi aage chalkar 5 Pandao ki Patni hui,
Jab Pandao ne Dropadi ko juye me har gaye, aur dushashan दुश्शाशन ne dropadi ki sadi utarkar bhari sabha me nangi karna chaha to kishi ne Dropadi ko nahi bachaya aur, antim me jab Dropadi ne Krishna ko Man me yaad kiya to Krishna ne, Dropadi ki Laj rakhi,
 o aise,
Dushshashan Jitna sadi ko khichta sadi utna lamba hota jata tha,
aur aakhir me Dushshashan thak gaya, aur is tarah se krishna ne apni bahan ki raksha ki,
wastav me Dropadi Krishna ki Asal bahan Nahi thi,

Kaise Manaya Jata hai, Rakshabandhan,


Bahan Apne Bhai ke Daine Hanth me Rakhi Ko Bandhti hai, aur ganth (गांठ) lagati hai,
bas ho gaya rakshabandhan,

Banki sab Mithai Khana, Tilak Lagana, Aarti Utarna ye sab dekhawati chij hai,

Aapne Raksha Bandhan Rakhi ki badhut sari Kahani Suni hogi, Banki sabhi Kalpnik hai,

Aapko Apne Bhai ki kasam, aur aaoko bahan ki yah aap whatsapp aur facebook me jarur share karenge,

Jul 9, 2018

निबंध - भारतीय संगीत की वर्तमान स्थिति पर निबंध
bhartiy sanskriti ki vartman istithi par nibandh
संगीत एक स्वतंत्र शाश्त्र है और यह अति सूछ्म और विशिष्ट कला है | जो की अनेक प्रकार के राग रागनियों से आबद्ध है जिसमे सुर एवं ताल  के संयोजन से गीत का निर्माण होता है | गीत निर्माण का प्रमुख उद्देश्य मानवीय भावों की यथार्थ अभिव्यक्ति करना है | कभी प्रेमी प्रेमिका के मिलन का संगीत तो कभी उनके विछोह से उत्पन्न पीड़ा का विरह धुन, कभी डोली में बैठी दुल्हन के ह्रदय का भाव तो कभी तन मन में सिहरन उत्पन्न कर देने बारिश और ठंडी हवाओ का धुन | अंततः कहें तो मानव ह्रदय के भावों का प्रस्फुटन ही संगीत है|

                   संगीत के शास्त्रों से ज्ञात होता है की राग से आबद्ध संगीत में ऐसी शक्ति है जिसमे दीपक राग से दिए जल उठते हैं, यहाँ तक की बारिश भी हो जाती है | संगीत शाश्त्र की जब उत्पाती हुई उस समय संगीत एक साधना थी जिसे हर कोई नही साध सकता था | जबकि आज व्यक्ति दो अक्षर गीत गुनगुना लेने पर अपने आप को संगीत का सम्पूर्ण जानकार मानने लगता है और यह समझने लगता है की संगीत की बस इतना ही है | जबकि वह संगीत के वास्तविक अवधारणा से कोसों दूर है, अभी उसे कम्बा सफ़र तय करना है परन्तु वह खुश है उसे लगता की मंजिल मिल गई है | यह ठीक वैसा ही है जैसे कुएं के भीतर मेंढक की दुनिया | अतः अभी बाजार में जो गाने आ रहे हैं उसमे से 75 प्रतिशत गानों काउद्देश्य केवल मनोरंजन करना है जिसमे हिरोइन का अंग प्रदर्शन चार चाँद लगा रहा है |

            अधिकांशतः अभी ऐसा हो रहा है की लोग गाने के विडिओ को देखकर गीत को पसंद करने लगे है यदि उस गीत का हिरोइन ग्लैमरस या खुबसूरत नही है यदि उसका अंग प्रदर्शन एवं नृत्य अच्छा नही है तो उस गीत का कोइ मूल्य नही | अतः यह स्पष्ट कहा जा सकता है की सुन्दर अभिनेत्री और उसका आकर्षक नृत्य ही गीत की उत्कृष्टता का पैमाना है | मैं समझता हूँ की गीत के विडिओ को केवल  नग्न आँखों से देखकर ही  न पसंद किया जाय बल्कि उसे केवल सुनकर उसके रस को आत्मसात किया जाय|

            परन्तु प्रश्न उठता है की वर्तमान में संगीत की ये दशा हुई कैसे, क्यों लोग सरल गीत और डिस्को डांस को पसंद करने लगे हैं जिसमे ज्यादा लयात्मकता रहती है जिस गीत में विशेष संयोजन रहता है वो गीत आज के जनरेशन से परे क्यों है |इसका साधारण सा उत्तर है, मां बाप जिस प्रकार के सभ्यता बच्चों को सिखाते हैं बच्चे वैसे ही सीखते हैं जो परोसा जाता है उसी को खाते हैं वे ये प्रश्न नही करते की इस भोजन से हमें कितनी मात्रा में ऊर्जा मिलेगी और इतनी उनमे समझ भी नही रहती | ये समझ और शिक्षा देना माँ बाप का ही कर्तव्य है |

        अतः लोगों की रूचि उनकी पसंद आदि को बदलने में वर्तमान संगीतकारों का ही हाथ है | लेकिन इसके जिम्मेदार केवल वे ही नही हैं कुछ अन्य भी कारक हैं | वर्तमान युग व्यवसाय एवं प्रतिस्पर्धा का युग है प्रत्येक व्यक्ति स्वयं को समृद्धी के शिखर पर देखना चाहता है सबकी सोंच एवं सपने बड़े है यह स्वाभाविक है | अब व्यक्ति इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए संगीत का व्यवसायीकरण भला क्यों न करे |

       संगीत के इस व्यवसायीकरण से इसका कलात्मक पक्ष समाप्त होता जा रहा है जबकि कला एवं ज्ञान की खोज ही मानव जीवन का चरम लक्ष्य एवं महान उद्देध्य है | भविष्य में हमें ऐसे भी दिन देखने पड सकते हैं जब पुराने संगीतकार, उनके संगीत की शैली आदि के विषय में शोध होगा आधुनिक एवं पुराने संगीतकारों का तुलनात्मक अध्ययन किया जाएगा |


         आज के किसी बच्चे को हनी सिंह के बारे में पूछा जाय तो वह झट से बता देगा की वह कौन है जबकि उसे खय्याम साहब या रफी साहब के के बारे में कुछ भी मालुम नही होगा | कहने का तात्पर्य यह है की हमारी संस्कृति में अच्छी चीजों को अपनाने की प्रवित्ति रही है जबकि आज हम अछि आदतें अच्छी संस्कार को छोड़कर उन चीजों को अपनाने लगे है जिससे हमारी संस्कृति एवं सभ्यता धूमिल होती जा रही है | हमारी
कलाएं हमारे उत्कृष्ट विचार समाप्त होते जा रहे हैं
                 विचारक जीवेन्द्र कुमार
संस्कृति का पतन ( हार का जश्न ) - संगीत के सन्दर्भ में
bhartiy sanskriti ka patan
यह सत्य है की समाज का आचार विचार, उसके मूल्य एवं उनकी मान्यताएं, साहित्य, संगीत, कला, एवं धर्म दर्शन, आदि
       अनेक माध्यमो से झलकती एवं दृष्टिगोचर होती है | तभी तो साहित्य को जनता के चित्त का प्रतिबिम्ब कहा गया है | जिस
     प्रकार साहित्य को पढ़कर जनमानस की युगीन चेतना एवं उनके नैतिक सामाजिक एवं अध्यात्मिक मूल्य को जाना जा सकता है,
     उसी प्रकार गीत संगीत के विषय वस्तु एवं उसकी सामग्री को सुनकर एवं पढ़कर भी उस युग के मनुष्यों के व्यव्हार उनकी चेतना 
    के स्तर एवं उनकी मानसिकता आदि का भी आकलन किया जा सकता है | संकृति की स्पष्ट झलक वहां का नृत्य एवं संगीत
     अभिव्यक्त करता है | आप संगीत जगत में उपलब्ध गीतों के विषय वस्तु का वर्तमान एवं अतीत के सन्दर्भ में तुलनात्मक
     अध्ययन करके भी जनमानस के विचार में आये परिवर्तनों के बारे में पता लगा सकते हैं |

          आदर्श गीत के विषय वस्तु के परखने के पैमाने


     1) वह गीत कितना संदेस परक है |
     2) वह कितना उत्तेजक है |
     3) उसमे अश्लीलता की मात्रा कितनी है
     4) उसमे अंग प्रदर्शन की सीमा क्या है
     5) वह समाज में सकारात्मक विचार कितना प्रसारित करता है
     6) गीत में कामुकता को प्रत्यक्ष दर्शित किया गया अथवा सांकेतिक रूप में
     7) मनोरंजन के साथ साथ सार्थक सन्देश का सामंजस्य है की नहीं
     8) मूल भाव का पोषण हो रहा की नही
     9) वह हमारे आदर्श विचार एवं मूल्यों को कितना प्रतिशत प्रदर्शित करता है
    10) स्वस्थ मनोरंजन की मात्र कितनी है 
    11) क्या केवल मनोरंजन ही गीत का उद्देश्य है| आदि |

               उपरोक्त विश्लेषण से यह ज्ञात होता है की एक उत्कृष्ट गीत की विशेषता में अनेक महत्वपूर्ण तत्वों का संयोजन है |
   जिनको अनदेखा कर के गीतकार एवं संगीतकार केवल वाहवाही ही लुट सकता है और अच्छी आमदनी प्राप्त कर सकता है परंन्तु
   संस्कृति एवं सभ्यता का पुनर्रक्षण नही कर सकता, भले ही अवसर पड़े तो राष्ट्र भक्ति का बखूबी शपथ ले सकता है |

          हलाकि ऐसा भी नहीं है की वर्तमान गीत केवल अश्लीलता ही परोस रहे हैं उनमे भी गहराइयाँ है स्वस्थ विचार हैं परन्तु
   उनके उत्तेजत्मकता वेदिओ एवं स्टाइलिश अंदाज के अनुकरण ने व्यक्ति के नैतिक मूल्यों का हास किया है |

          उदहारण :     दारू बदनाम करती
                                      इस गीत से बच्चा बच्चा वाकिफ है, और इसमें कोई बुराई भी नहीं है यह प्रेराणास्पद
              गीत है | जो यह सन्देश देता है की शराब पीने से बदनामी ही हासिल होता है यह व्यक्ति को बदनाम करके ही
         छोडती है दारु पिने से व्यक्ति की मान मर्यादा इज्जत रुद्बा सम्मान सब कुछ ख़त्म हो जाता है |

           अब विडम्बना यह है की इस सुन्दर विचार को आत्मसात करके जीवन सँवारने के बजाय व्यक्ति बोटल भर दारू पीकर
           उसी शिक्षा प्रद गीत में टून एवं मदमस्त होकर नाचता है और और अपने पतन का जश्न भी मनाता है | और ताजुब की
       बात यह है की उसे पता भी नहीं होता की वह जश्न भी मन रहा है | ( अपनी हार का जश्न )


                                          उपरोक्त लिखित बातें  लेखक के निजी विचार हैं अगर किसी के भावना को आहत
                           पहुँचती है तो लेखक इसके लिए क्षमाप्रार्थी है|
                                                             लेखक- जीवेन्द्र कुमार
विश्व प्रसिद्ध सर्पदंश उपचार व नागपंचमी बिरितिया बाबा मेला गाँव कैथा छत्तीसगढ़
नमस्कार दोस्तों मेरा नाम योगेन्द्र कुमार है और आज आपको दुनिया की सबसे प्रसिध्ध नाग पंचमी मेला के बारे में बताने जा रहा हूँ |Sarpdansh upchar kendra kaitha chhattisgarh
इस मेले के बारे से मै बचपन से सुनता आ रहा हूँ, 
एक ऐसा गाँव है, जहाँ जाने की मैने कई साल प्रयास किया और आज 28/07/2017 को गया भी |
अब आपको जो बताने जा रहा हूँ, उसे सुन कर, जान कर आपको थोड़ा अदभुत लगेगा, लेकिन भारत देश में यह कोई बड़ी बात नहीं |
यह बिलकुल पूरी तरह से सत्य है, यह मजाक नहीं, और न कोई मनगढ़हन कहानी है |
अगर आपसे कहाँ जाए, किंग कोबरा ने किसी को दर्श कर लिया है, और कोई कहे उस व्यक्ति को यह खा लो 5 पांच मिनट में ठीक हो जाओगे, तो कोई यकीन करेगा |
लेकिन आपको जो बताने जा रहा हूँ, वह पूरी तरह सत्य है |
भारत देश, छत्तीसगढ़ राज्य, जिला-जांजगीर चाम्पा, ब्लाक-हसौद, के अंतर्गत ग्राम कैथा है, जहाँ विश्व का पौराणिक नागपंचमी मेला लगता है |
यहाँ की जनसंख्या 5000 से अधिक है |
और यह मेला इसलिए लगता है, क्योकि यहाँ सर्प दंश का इलाज तुरंत हो जाता है |
जाने इस ग्राम और मेले और सर्प दंश ईलाज की कहानी |
जब यह ग्राम करीब सदियों पहले बसा हुआ था, तो उस समय ग्राम में एक मुखिया हुआ करते थे, जिसे गौटिया भी कहते है |
उनके सपने में एक सर्प ने सपने दिये की मेरे गले में मरा हुआ जानवर को निगलते समय जानवर की हड्डी फस गया है, उसे आकर निकाल दो, मै गाँव के खैया के पास हूँ बाबा जिनका नाम बीरतिया- और बिरितिया बाबा भी कहते है,

खैया- 

उस समय मरे हुए जानवरों को फेकने के लिए एक जगह होता था, जिसे खैया कहते थे |
बाबा ने सपने को नजरंदाज कर दिया, उसके बाद फिर से उन्हें बार-बार वही स्वप्न आया, उन्होंने जाकर देखने का निर्णय लिया,
बाबा ने अपने पड़ोस के व्यक्ति को साथ ले जाकर देखा तो वहां पर बड़ा सा सर्प था, जिसने सपने दिया था |
बाबा को संकोच हुआ की कही ये मुझको खा न ले, या मै इसकी मदद कैसे करूँ,
यह सोच कर बिरतिया बाबा घर आकर सो गए; सोने के बाद फिर से स्वप्न आया की अगर आप मेरी मदद नहीं करोगे तो मै मर जाऊंगा |
अपने साथ बाबा एक व्यक्ति को ले गए, जिनका नाम आगे चलकर साखी हुआ |

साखी –  

साथ देने वाला, साथ में रहने वाला, गवाह रहने वाला |
बाबा ने सकुचाते हुए सर्प के गले से मरे हुए जानवर को निकाला, जो गले में फंस गया था |

सर्प ने बाबा से बात किया -

माना जाता है, की उस ज़माने में कुछ जानवर भी बात किया करते थे |
कहाँ, की बिरतिया बाबा आपने मेरा जान बचाया है, आपको मै वरदान देना चाहता हूँ |
आप मांगे जो आपकी इच्छा है,
बिरितिया बाबा ने कहाँ की, मेरे लिये कुछ नहीं चाहिए आपकी दया से सब कुशल है,
देना चाहते है, तो यह वरदान देवे, की जो इस गाँव में सर्प दंश से पीड़ित आये, वह यहाँ से मरा न जाए आपकी दया से |
और यह वरदान सर्प ने दिया की, हे बिरतिया बाबा जो भी आपके घर पर सर्प दंश आए, वह मरा हुआ न जाए |
तब से लेकर यह मेला नागपंचमी के दिन यहाँ मनाया जाता आ रहा है, यहाँ नागपंचमी के दिन लाखों लोग दर्शन के लिए आते है, और खास करके वह लोग जो यहाँ से सर्प दंश से ठीक हुए होते है |

सर्प दंश का उपचार-

बाबा ने वरदान में यह माँगा था, की इस गाँव में किसी भी व्यक्ति को सर्प दंश से कोई हानि नहीं होगा |
गाँव के स्वागत द्वार पर आते ही व्यक्ति ठीक होने लगता है,
और जब सर्प दंश व्यक्ति को बाबा के मंदिर के पास लाया जाता है, उसके बाद मंदिर के पुजारी बाबा मंदिर के अन्दर से एक छोटा सा बिल से एक चुटकी मिट्टी निकालकर थोड़ी सी पानी में मिलाकर सर्प दंश व्यक्ति को पिला दिया जाता है,
और मंदिर के अन्दर लेटा दिया जाता है, और परदे को बंद कर दिया जाता है |
उसके बाद बिरतिया बाबा की 2 से अधिक बार जयकारे लगाये जाते है,
दो (2) से लेकर (5)पांच मिनट में ही व्यक्ति ठीक हो जाता है |
और मंदिर में नारियल फोड़ा जाता है, अगरबत्ती जलाया एवं दीप से आरती किया जाता है |

मुख्य बाते -यह मंदिर चौबीस (24) घंठे खुले रहते है,

मुख्य बात- यहाँ किसी से कभी भी सर्प दंश के लिए 1 रुपया भी नहीं लिए जाने की प्रथा है, आप आपके श्रद्धा से पेटी में दान कर सकते है |
और रुकना चाहे हो गाँव में कुछ दिन रुक सकते है,
ठहरने के लिए जल्द कुछ मकान बनाया जा रहा है |

मंदिर-

पहले यहाँ पर छोटा सा चबूतरा हुआ करता था, जिसे नवनिर्माण से मंदिर बनाया गया है |

सर्प दंश काटे को लाना चाहते है तो –

नारियल घर से लाना जरुरी नहीं, आपको 24 घंठे मंदिर के पास दुकान में नारियल मिल जायेगा | गाँव मंदिर का नक्शा निचे है, देखे –
ग्राम कैथा में सावन में सोमवार के दिन और खास करके- नागपंचमी को बोलबम-बोलबम मानाने के लिए दूर-दूर से आते है |
मंदिर में सर्प दंश उपचार के लिए पुजारी होता है, जो यह सारी विधि को करते है, और उनके साथ में एक और सहयोगी पुजारी रहते है | एक पुजारी की अनुपस्तिथि में दूसरा पुजारी मंदिर में रहते है |
पुजारी का चयन- गाँव के लोग मिलकर उचित व्यक्ति को पुजारी बनाते है, वह व्यक्ति अपने उम्र तक पुजारी रह सकता होता है |

वर्तमान में पुजारी

मुख्य पुजारी- पंडित बाबा राजेश जी है
सहयोगी पुजारी- पंडित बाबा जवाहर लाल जी है,
अन्य पुजारी- समस्त ग्राम वासी कैथा |

उपचार आकड़ा -

गर्मी के दिनों में 50 से ऊपर लोग रोजाना आते है,
बरसात के दिनों में कभी-कभी 100 से ऊपर व्यक्ति आते है,
सालाना – हजारो सर्प दंश यहाँ से ठीक होकर जाते है |

बिरतिया बाबा नाम का चमत्कार –

अगर कोई भी व्यक्ति चाहे कैसा भी सर्प क्यों न काट लिया हो, और वह दुनिया के किसी जगह पर हो, वह व्यक्ति (जय बिरितिया बाबा गाँव कैथा के ) ऐसा कहकर एक चुटकी मिटटी निचे जमीन से खा लेगा तो वह कुछ ठीक हो जायेगा |
उसके बाद उस व्यक्ति को जितना जल्दी हो सके ग्राम कैथा आना होता है, अगर कोई विदेश से है तो, वह भी आ सकता है,
और भारत वासी को जितना जल्दी हो सके 10- से 15 दिन जो भी लगे एक बार आना ही होता है |

मंदिर की मिटटी ले जाना –

लोग यह मानते है, की यहाँ की मिटटी चमत्कारी है, यह सत्य है, लेकिन यह मिटटी ग्राम कैथा के अन्दर तक ही अच्छा है, क्योकि बाबा बिरितिया नाम का मिट्टी ही चमत्कारी है, तो इसे घर पर ताबीज बना कर पहनने से क्या फैयदा |
गाँव के लोग इसे गलत मानते है |

बाबा का इतिहास –

यह कहानी सदियों से चली आ रही है, बाबा के बारे में किसी को जानकारी नहीं एवं जहाँ बाबा रहते थे वही पर पास में मंदिर को बनाया गया है |
इस लेख में कहे गए बात की पूरी तरह सहमती देते है,
लेखक एवं संपादक रिसर्च कर्ता– योगेन्द्र कुमार
एवं ग्रामवासी
बाबा नरसिह जी, रामविलास जी, संतोष जी, एवं समस्त ग्रामवासी कैथा 

रिसर्च में- आपको जल्द सांप उपचार की लाइव दिखाने वाला हूँ,
हमारे Youtube से जुड़ने के लिए Subscribe करे और लाइव देखे,

कैथा आने के लिए-

ट्रेन से-

सक्ति रेलवे स्टेशन से-

मालखरौदा 20 किलो मीटर, आगे छपोरा 10 किलो मीटर, वहां से हसौद 10 किलोमीटर, और कैथा पास में 3 किलोमीटर,
39 किलोमीटर


खरसिया रेलवे स्टेशन से-

डभरा 25 किलो मीटर, डभरा से छपोरा 10 किलोमीटर, आगे छपोरा से हसौद 10 किलोमीटर, और कैथा पास में 3 किलोमीटर,
टोटल 43 किलोमीटर


बाराद्वार रेलवे स्टेशन से-
सीधे हसौद 37 किलोमीटर,


चाम्पा रेलवे स्टेशन से-
केरा रोड से बिर्रा रोड फिर हसौद से 3 किलोमीटर पहले

जांजगीर से -

कैथा मैप

अगर आप कुछ अधिक जानना चाहते है तो नीचे बॉक्स में कमेंट करके बताये, और अपने मित्रो सुभचिन्ताको के साथ शेयर करें |

धन्यवाद्

Jul 6, 2018

संगीत कैसे सीखे, संगीत सीखने का सही तरीका हिन्दी में
Sangeet Kaiose Sikhe Puri Jankari jane

अगर आप संगीत सीखना चाहते हैं तो आपको क्या करना चाहिए


दुनिया के प्रत्येक व्यक्ति में संगीत के प्रति आकर्षण जरुर होता है | चाहे वे संगीत जानें या ना जाने पर गीत का आनंद हर कोई लेता है | और यदि वह इस धुन की ख़ुशी को
व्यक्त नहीं कर पता तो अंततः वह नाचने लगता है | कहने का अर्थ यह है की भले ही व्यक्ति को संगीत की जानकारी न हो परन्तु वह उसको बखूबी समझता है और जमकर
आनंद लेता है | यहीं से उसके सिखने की संभावना बनने लगती है, यह ठीक वैसा ही है जैसे एक बीज मे वृक्ष की सम्भावना | जो की अच्छी खाद और उपजाऊ भूमि को पाकर
फलदार वृक्ष का रूप लेता है | अतः सिखने वालों के लिए प्लेटफोर्म की कमी नहीं है बस उसकी प्रवित्ति सिखने की होनी चाहिए |

संगीत सिखने के रास्ते अथवा माध्यम

       आजकल अधिकांश जानकारी हमको इंटरनेट के माध्यम से ही उपलब्ध हो जाता है | नेट में सर्च करके हम क्रमशः उसकी सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकते हैं | पहले
सरगम का अभ्यास किया जाय तत्पश्चात उसके आरोह एवं अवरोह एवं अलंकारों का अध्ययन किया जाय | इसी प्रकार क्रमशः एक एक सोपानो का अनुशरण करके आप संगीत
की आधी जानकारी यूँ ही प्राप्त कर सकते हैं | लेकिन इसके लिए आपके पास एक हारमोनियम होना चाहिए जिसके माध्यम से आप रियाज कर पायें | आप सुबह और शाम
केवल दो दो घंटे ही समय निकल सकते है और इस कला में निखर ला सकते है | ध्यान रहे अभ्यास को ही सबसे बड़ा गुरु कहा गया है, करत करत अभ्यास के जड़ मति होत
सुजान ऐसी उक्ति भी है| कई महारथी अभ्यास के बिना अपनी विद्वता को भी त्याग बैठते हैं | अतः इस प्रकार आप इंटरनेट के द्वारा अधिकांश जानकारी स्वतः ही प्राप्त कर
सकते हैं |

    वर्तमान में सिखने का सबसे बड़ा प्लेटफोर्म यूट्यूब हैं जिसके माध्यम से आप सगीत तो क्या संसार की हर कला को घर बैठे ही सिख सकते हैं | संगीत सिखने के लीये
आप सबसे पहले कीसी एक अच्छे चैनल को सब्स्क्राइब कर लिजियें जिसमे अच्छे गुरुओं के द्वारा सिखया जाता है फिर आप उसके हर एपिसोड को ध्यानपूर्वक देखियें एवं
उनका अनुशरण करते जाइए | शुरुआत में ये आपको कठिन लग सकता है लेकिन जब उनकी बातें आपकी पकड़ में आती जायेंगी तो आपको धीरे धीरे अच्छा लगने लगेगा |
यदि आपको कहीं पर कोई दिककत होती है तो आप कमेन्ट बाक्स में लिखकर भी उसको बता सकते हैं जिसका उत्तर आपको दिया जाएगा जिससे आपकी समस्या हल हो
जायेगी | आप कान्टेक्ट नंबर के द्वारा सीधा उनसे बात भी कर सकते हैं और परामर्श भी ले सकते हैं |

           इसके अलावा अगर आपके आसपास कोई संगीत विद्यालय है तो आप वहां भी भर्ती होकर नियमित रूप से सिख सकते हैं यदि ऐसा विद्यालय आपके आसपास
उपलब्ध है तब यह और भी अच्छी बात है क्योकि यहाँ पर आपको गुरुओं के समक्ष बैठकर शिक्षा मिलेगी | और अगर आप संगीत की आधी जानकारी ऐसे ही जानते हैं तब तो
यह और भी ख़ुशी की बात है | कई लोग ऐसे भी होते है संगीत में जिनको विशेष रूचि होती है और ये बिना गुरु के ही काफी कुछ सिख गए होते हैं, और ये गाना तो ये बड़े
आसानी से गा लेते है जबकि उनको कोई सिक्षा प्राप्त नही हुई होती है | दरअसल यह गुण उनकी आतंरिक दृष्टि और पकड़ के कारण होती है ये सुर के उतार चढ़ाव को बखूबी
समझते हैं, इसी लिए सही सुर में ये गा लेते हैं | ऐसे लीगों को ज्यादा अभ्यास करने की आवश्यकता नही होती इनके लिए सबकुछ आसन होता है |

      अतःप्रत्येक व्यक्ति जो संगीत जानता हो या न जानता हो इन उपरोक्त माध्यमों से नियमित अभ्यास करके संगीत को भलीभांति सिख सकता है |

Jul 5, 2018

 तुलाराम निराला की कविता, यह मंदिर नहीं धंधा है, ब्राम्हणों का फंदा है
yah mandir nahi dhandha hai bramhano ka fanda hai
यह कविता भगवान और देवी देवता के ऊपर हो रहे सृंगार और चढ़ावा और मानव की हालत को बयाँ करता कटाक्ष है,
ऐ दोस्त जरा एक लाइन का उत्तर तो दे जाना,
मानव ने पत्थर पूजा मानव मानव को कब पहचान सका।
         यद्यपि इसकी छाया को पा रूप रंग भगवान न सका।
      मानव फुटपाथो पर सोते भगवान भवन के झूलो पर।         
 मानव सुत पत्थल चाट रहे नैवैद्य ऊपर थाली भर भर ।
     जा रही हजारों की लाशे बिन कफ़न के मुर्दा खानों में।
     श्रृंगार नहीं पूरा होता उनके रेशम के थानों में। ।
     पत्थर अन्बहाये जातें है दुर्भाग्य दुध घी जल से।
       भूखी भीखमांगीन का बच्चा दो बूँद पानी पी न पाये कल से। ।
       सोने चांदी के ढेरों पर जितने भगवान बनाये है।
     मानव मानव का खून चूसकर कंकाल समान बनाये है। ।
       यदि यही धर्म के है धुरीण तो लानत है इनको ठोकर।
      यदि यही धर्म के नेता तो धिक्कार रहा इनकी ईश्वर। ।
      इन पण्डो और पाखंडो की ईश्वर ही ठेकेदारी है। 
       तो सुन लो आज तुलाराम निराला कहता है यह डायन और हत्यारी है। ।
       इंसान उठो फेको पत्थर अब मानव का पूजन होगा।
        मानव के शवों के ऊपर निर्माण बिधान नहीं होगा। ।
      इंसान न होगा नालों में मठ मे पाषाण नहीं होगा।
      स्वर्ग नर्क के ठेके का सौदा अब नीलाम नहीं होगा। ।
     तुलाराम निराला पुकार रहा है इन मानव मानव के कानों में।
     अरे बढ़के आग लगा दो जवानों इन पत्थर के भगवानो में। ।
      हम भू पर स्वर्ग उतारेंगे अपने कुछ चंद इशारों से।
         फिर देखो कितना भारी बल है जय भीम के नारों में। ।
आज के समय में देवी देवता के नाम पर हर किसी को लुट सकते तो, क्योकि भारत के लोग बड़े मुर्ख और अन्धविसवासी होते है,
अगर आपको इस कविता की सच्चाई देखनी है तो किसी भी मंदिर में चले जाओ, सब में एक जैसा हालत है,
यही देखने को मिलेगा,
यह मंदिर नहीं धंधा है, ब्राम्हणों का धंधा है,